Violent-Agnipath-Protests

सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर ‘Agnipath’ के हिंसक प्रदर्शन में 1 की मौत, 8 घायल

गुस्साई भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस द्वारा की गई गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई,

केंद्रीय रक्षा मंत्रालय की नई ‘Agnipath’ योजना के विरोध में शुक्रवार को सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर गुस्साई भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस द्वारा की गई गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि आठ अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को सिकंदराबाद के गांधी अस्पताल ले जाया गया। सेना भर्ती परीक्षाओं के इच्छुक सैकड़ों उम्मीदवारों ने तेलंगाना शहर के मुख्य रेलवे स्टेशन में तोड़फोड़ की।

क्या कहा वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “सामान्य रेलवे पुलिस (जीआरपी) बलों को लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले दागने के बाद गुस्साई भीड़ पर गोलियां चलाने के लिए मजबूर होना पड़ा।” भीड़ को नियंत्रित करने के लिए जीआरपी बलों ने कथित तौर पर करीब 15 राउंड फायरिंग की। पथराव में दो पुलिस कांस्टेबल भी घायल हो गए। रेलवे के डीजी संदीप शांडिल्य और अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंचे और स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं।

प्रदर्शनकारियों ने पथराव भी किया और एक ट्रेन की दो बोगियों में आग लगा दी, साथ ही रेलवे की अन्य संपत्तियों को भी नुकसान पहुंचाया।

भीड़ ने रेलवे स्टेशन के बाहर राज्य सड़क परिवहन निगम की बसों में भी तोड़फोड़ की,

भीड़ ने रेलवे स्टेशन के बाहर राज्य सड़क परिवहन निगम की बसों में भी तोड़फोड़ की, जिससे दक्षिण-मध्य रेलवे अधिकारियों को स्टेशन में प्रवेश करने वाली सभी ट्रेनों को तुरंत रोकना पड़ा। पुलिस के अनुसार, सैकड़ों आंदोलनकारियों ने रेलवे स्टेशन पर धावा बोल दिया और प्लेटफॉर्म नंबर 1 और 2 पर स्टॉल और कार्यालयों को लाठियों और पत्थरों से क्षतिग्रस्त कर दिया। उन्होंने खड़ी ट्रेनों पर पथराव किया, जिससे यात्रियों को सुरक्षा के लिए दौड़ना पड़ा। इस घटना में कुछ यात्री घायल भी हुए हैं।

प्रदर्शनकारियों ने कोलकाता जाने वाली ईस्ट कोस्ट एक्सप्रेस की दो बोगियों में आग लगा दी

बाद में, प्रदर्शनकारियों ने कोलकाता जाने वाली ईस्ट कोस्ट एक्सप्रेस की दो बोगियों में आग लगा दी, जो स्टेशन से निकल रही थी। उन्होंने अजंता एक्सप्रेस और मल्टी-मोडल ट्रांसपोर्ट सिस्टम (एमएमटीएस) ट्रेनों की कुछ बोगियों में भी आंशिक रूप से आग लगा दी। आंदोलनकारियों ने रेलवे का माल भी पटरियों पर फेंक दिया और उनमें आग लगा दी। इस दौरान ट्रैक पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। दमकल की पांच गाड़ियों को स्टेशन और उसके परिसर में लगी आग पर काबू पाने में दो घंटे से अधिक का समय लगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.