7-Effective-Ayurveda-Tips

इस Monsoon में खांसी और सर्दी को दूर रखने के लिए 7 प्रभावी आयुर्वेद टिप्स को जरूर अपनाएं

जानिए इस मौसम में कैसी समस्याओं की करना पड़ सकता है सामना

Monsoon आ गया है और इस मौसम में कई स्वास्थ्य समस्याएं आम हैं। खासतौर पर उमस भरे मौसम में खांसी, जुकाम और गले की समस्या ज्यादा होती है। बरसात के मौसम में वायरल, बैक्टीरियल या फंगल संक्रमण के अनुबंध के जोखिम को देखते हुए, पर्याप्त रोकथाम उपाय करना महत्वपूर्ण है। सही खान-पान और नियमित व्यायाम के साथ अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को ऊंचा रखना भी जरूरी है।

रसोई में ही बसे है प्रतिरक्षा बूस्टर

कई प्रतिरक्षा-बूस्टर हैं जो आमतौर पर आपकी रसोई में पाए जाते हैं और जो आपको स्वस्थ रहने में मदद कर सकते हैं। हल्दी वाला दूध या कुछ काली मिर्च और शहद के साथ मसाले का मिश्रण खांसी और सर्दी के मुद्दों को दूर रखने में मदद कर सकता है। तुलसी या अदरक की चाय पीने से भी मदद मिल सकती है। दिन में 2-3 बार हल्दी-नमक के पानी से गरारे करने की भी सलाह दी जाती है। इसके अलावा स्टीम इनहेलेशन भी मदद कर सकता है।

आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ दीक्सा भावसार Monsoon की बीमारियों को दूर रखने के लिए उपयोगी आयुर्वेदिक उपचार सुझाते हैं।

  1. अदरक और शहद
    1 चम्मच सोंठ (सोंठ का चूर्ण) एक चम्मच शहद के साथ दिन में तीन बार भोजन से आधा घंटा पहले लें।
    बच्चों के लिए खुराक: 1/4 छोटा चम्मच शोंठ और शहद।
  2. हल्दी, काली मिर्च और शहद

भोजन के आधे घंटे बाद दिन में दो बार 1 चम्मच हल्दी एक चुटकी काली मिर्च और शहद के साथ लें।

बच्चों के लिए खुराक: वयस्क खुराक का आधा।

  1. तुलसी की चाय, मेथी की चाय, अदरक-पुदीने की चाय, मुलेठी की चाय जैसी विभिन्न प्रकार की वार्मिंग और गले की सुखदायक चाय पिएं
  2. दिन में 2-3 बार हल्दी-नमक के पानी से गरारे करें।
  3. मुलेठी / यस्तिमधु और शहद: 1 चम्मच यस्तिमधु (जिसे सामान्य भाषा में मुलेठी कहा जाता है) लें और उसमें एक चम्मच शहद मिलाएं। इसे भोजन के 40 मिनट बाद दिन में दो बार लें। उच्च रक्तचाप वाले लोगों के लिए मुलेठी की सिफारिश नहीं की जाती है। बच्चों के लिए खुराक: आधा चम्मच मुलेठी और शहद।
  4. पुदीना, अजवायन, मेथी और हल्दी के साथ उबाले हुए पानी के साथ भाप लें।
  5. दिन भर में गर्म पानी पिएं।

डॉ. भावसार सुझाव देते हैं कि वसायुक्त भोजन, तला हुआ, बासी और स्ट्रीट फूड का सेवन कम करें और इसके बजाय हल्का घर का बना खाना खाने की कोशिश करें। वह भस्त्रिका, अनुलोम विलोम और भ्रामरी प्राणायाम का अभ्यास दिन में दो बार सुबह और रात में करने की भी सलाह देती हैं।

सर्दी और खांसी के लिए प्रभावी रूप से काम करने वाले आयुर्वेदिक फॉर्मूलेशन हैं:

  • शहद के साथ सितोपलादि चूर्ण
  • शहद के साथ त्रिकटु चूर्ण
  • शहद के साथ तलिसदि चूर्ण
  • लक्ष्मीविलास रस गर्म पानी के साथ
  • त्रिभुवनकीर्ति रस गर्म पानी के साथ
  • लवंगड़ी वटी गर्म पानी के साथ
  • गरम पानी के साथ खादीरादी वटी

आयुर्वेद विशेषज्ञ, हालांकि, चेतावनी देते हैं कि इन योगों को हमेशा आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करने के बाद ही लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.