Antibiotics are eaten in everything, so be careful, this can be a serious disease

हर बात में खाते हैं Antibiotics, तो संभल जाइए हो सकती हैं ये गंभीर बीमारी

छोटी है या बड़ी बीमारी ‘Antibiotics’ हम किसी न किसी बात पर खा ही लेते हैं।सर्दियों में जुकाम, बुखार, फेफड़ें और पेट से संबंधित बीमारी होती ही रहती है।बिहार की फेमस अखबार के रिपोर्ट के मुताबिक जनवरी के महीने में लगभग 20 लाख से ज्यादा एंटीबायोटिक्स बिकीं हैं।यह रिपोर्ट काफी चौंकाने वाले हैं. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि इतने सारे एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल सेहत के लिए अच्छा है क्या?

BMJ Gut Journal में पब्लिश एक रिपोर्ट के मुताबिक ज्यादा मात्रा में Antibiotics खाना आपको बीमार कर सकता है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगर आपकी उम्र 40 से ज्यादा है तो आपको ज्यादा मात्रा में एंटीबायोटिक्स (Antibiotics) खाना सेहत के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है. इसलिए इसे खाने से परहेज ही करना चाहिए.

40 की उम्र के लोग ज्यादा एंटीबॉयोटिक्स न खाएं

दरअसल, BMJ Gut Journal में पब्लिश एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2000 से 2018 तक के 10 साल से अधिक डेटा रखा गया. इस स्टडी में 61 लाख लोगों को शामिल किया गया। इसमें 55 लाख लोगों पर रिसर्च किया गया जिसमें देखा गया कि 55 लाख लोग ऐसे थे।जो ज्यादा एंटीबॉयोटिक्स खाते थे. उन्हें पेट से जुड़ी बीमारी ज्यादा थी। इन रिसर्च में इस बात का भी खुलासा किया गया कि 40 के उम्र के बाद जो लोग एंटीबायोटिक्स (Antibiotics) ज्यादा खाते हैं उनके शरीर पर कई तरह के नुकसान देखने को मिलते हैं. इससे पेट में पाई जाने वाली अच्छी बैक्टीरिया को नुकसान पहुंचता है।साथ ही ये अल्सरेटिव कोलाइटिस (ulcerative colitis) का कारण बन सकता है।

अल्सरेटिव कोलाइटिस क्या है?

अल्सरेटिव कोलाइटिस एक सूजन आंत्र रोग (IBD) है जो पेट में सूजन और अल्सर का कारण बन सकती है।अल्सरेटिव कोलाइटिस बड़ी आंत होती है।जिसे कोलन और रेक्टम कहा जाता है।और इससे अंदरूनी परत भी इफेक्टिव होती है।

जानिए क्या है क्रोहन रोग

इसके अलावा क्रोहन रोग (crohn’s disease) यानी यह आपके पेटी की पुरानी बीमारी और सूजन का भी कारण बन सकता है। यह आपके किडनी और लिवर को भी इफेक्ट कर सकता है।इसके कई नुकसान भी हैं।इसलिए Antibiotics खाने से बचे नहीं तो ये आपके लिए काफी दिक्कत कर सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *