भारत पर आरोप लगाकर अकेले पड़ गए कनाडा के पीएम ट्रूडो, पश्चिमी देशों का रुख भी ठंडा, जानें वजह -
Canada PM Justin Trudeau

भारत पर आरोप लगाकर अकेले पड़ गए कनाडा के पीएम ट्रूडो, पश्चिमी देशों का रुख भी ठंडा, जानें वजह

बीबीसी की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसा लगता है कि कनाडा के पीएम ट्रूडो (Canada PM Justin Trudeau) काफी हद तक अब महज अपने आप पर निर्भर हो गए हैं और उनका कोई मददगार सामने नहीं आ रहा है. कम से कम जनता की नजरों में तो हालात ऐसे ही हैं क्योंकि उन्होंने भारत को बेवजह नाराज किया है. संसद में ट्रूडो के विस्फोटक बयान के कुछ दिनों बाद फाइव आइज खुफिया गठबंधन में उनके सहयोगियों ने इस बारे में सार्वजनिक रूप से सामान्य बयान दिए, लेकिन उनको सभी का पूरा समर्थन नहीं मिला. फाइव आइज गठबंधन अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बीच एक अंतरराष्ट्रीय खुफिया जानकारी शेयर करने का मंच है।

अमेरिका के तटस्थ रहने की उम्मीद

कुछ मीडिया रिपोर्टों से पता चला है कि अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने शायद भारत के खिलाफ ट्रूडो के आरोपों को उकसाने में बड़ी भूमिका निभाई है. इसके बावजूद वाशिंगटन ने इस मुद्दे पर नई दिल्ली को खुली चुनौती देने से परहेज किया है. एक्सपर्ट्स के मुताबिक निज्जर की हत्या पर कथित तौर पर ‘गहरी चिंता’ जताने के अलावा अमेरिका के किसी का पक्ष नहीं लेने की संभावना है. इसका कारण है कि वह नई दिल्ली के साथ अपने संबंधों में तनाव पैदा करना नहीं चाहता है. कनाडा के दूसरे सहयोगियों ने भी अमेरिका के समान ही रुख अपनाया है।

अमेरिका ने की भारत की तारीफ

कनाडा के पीएम ट्रूडो के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए ब्रिटेन के विदेश मंत्री जेम्स क्लेवरली ने कहा कि उनके देश ने कनाडा की बातों को बहुत गंभीरता से लिया है।लगभग इसी तरह की भाषा में ऑस्ट्रेलिया ने भी कहा कि वह आरोपों से गहराई से चिंतित है।जबकि अमेरिका जैसे देश अपनी सार्वजनिक प्रतिक्रियाओं में कमोबेश नरम रहे. राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इस हफ्ते संयुक्त राष्ट्र में सार्वजनिक रूप से भारत के बारे में चर्चा की।इसमें उन्होंने एक नए आर्थिक मार्ग को बनाने में मदद करने के लिए भारत की प्रशंसा की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *