Centre-Allowed-7-Cities-Towns-to-be-Renamed

केंद्र ने पिछले पांच वर्षों में 7 शहरों, कस्बों के नाम बदलने की अनुमति दी, लोकसभा ने बताया

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मंगलवार को लोकसभा को बताया कि केंद्र ने पिछले पांच वर्षों में शहरों और कस्बों के नाम बदलने के सात प्रस्तावों को मंजूरी दी है। मंत्रालय ने यह भी पुष्टि की कि राज्य सरकार से पश्चिम बंगाल का नाम ‘बांग्ला’ रखने का प्रस्ताव प्राप्त हुआ है। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा, “पश्चिम बंगाल सरकार से तीनों भाषाओं यानी बंगाली, अंग्रेजी और हिंदी में राज्य का नाम बदलकर ‘बांग्ला’ करने का प्रस्ताव मिला है।”

ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सरकार ने राज्य का नाम बदला

2016 में, ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सरकार ने राज्य का नाम बदलकर अंग्रेजी में ‘बंगाल’, बंगाली में ‘बांग्ला’ और हिंदी में ‘बंगाल’ करने का प्रस्ताव रखा, जिसे ठुकरा दिया गया। राज्य का नाम बदलकर ‘बांग्ला’ करने के लिए 26 जुलाई, 2018 को पश्चिम बंगाल विधानसभा द्वारा एक प्रस्ताव पारित करने के बाद राज्य का नाम बदलने का एक औपचारिक प्रस्ताव फिर से भेजा गया था।

मध्य प्रदेश के इस साल अप्रैल में मंत्रालय में सीहोर जिले के नसरुल्लागंज नगर का नाम बदलकर हुआ भैरौंडा

जिन सात शहरों और कस्बों का नाम बदलने की अनुमति दी गई थी, उनके अलावा, मंत्री, जो तृणमूल कांग्रेस सांसद सजदा अहमद के एक सवाल का जवाब दे रहे थे, ने कहा कि मध्य प्रदेश के इस साल अप्रैल में मंत्रालय में सीहोर जिले के नसरुल्लागंज नगर का नाम बदलकर भैरौंडा करने का प्रस्ताव प्राप्त हुआ है । पिछले पांच वर्षों में जिन सात शहरों और शहरों का नाम बदलने की अनुमति दी गई है, उनमें उत्तर प्रदेश का इलाहाबाद शामिल है, जिसे 15 दिसंबर, 2018 को अपना नाम बदलकर प्रयागराज करने के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र दिया गया था।

वर्ष 2017 में, आंध्र प्रदेश शहर “राजमुंदरी” का नाम बदलकर “राजमहेंद्रवरम” कर दिया गया। 2018 में, झारखंड के शहर “नगर उन्तारी” का नाम बदलकर श्री बंशीधर नगर कर दिया गया। उसी वर्ष के दौरान, मध्य प्रदेश नगर पंचायत शहर, “बिरसिंहपुर पाली” का नाम बदलकर “माँ बिरसिनी धाम” कर दिया गया।

वर्ष 2021 में मध्य प्रदेश के “होशंगाबाद नगर” का नाम बदलकर नर्मदापुरम और “बाबाई” का नाम बदलकर “माखन नगर” कर दिया गया। वर्ष 2022 में, पंजाब में “श्री हरगोबिंदपुर” को “श्री हरगोबिंदपुर साहिब” में बदल दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.