China Space Mission: चीन की अमेरिका को चुनौती! पहली बार स्पेस में भेजेगा सिविलियन! 2029 तक नया चांद मिशन भी करेगा लॉन्च! -
China Space Mission

China Space Mission: चीन की अमेरिका को चुनौती! पहली बार स्पेस में भेजेगा सिविलियन! 2029 तक नया चांद मिशन भी करेगा लॉन्च!

China Space Mission: अंतरिक्ष में चीन एक और बड़ा कदम उठाने जा रहा है। देश ने नए स्पेस मिशन का ऐलान किया है जिसमें एक सिविलियन को स्पेस स्टेशन में भेजा जाएगा। यानि कि यह पहला मिशन होगा जिसमें एक चीनी नागरिक को अंतरिक्ष में भेजा जाने वाला है। अभी तक जो एस्ट्रोनॉट स्पेस मिशन पर गए हैं वे पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) से रहे हैं। यह सिविलियन तियांगोंग स्‍पेस स्टेशन के चालक दल में शामिल होगा। आइए विस्तार से जानते हैं चीन के इस मिशन के बारे में।

चीन अंतरिक्ष में अमेरिका को चुनौती देता नजर आ रहा है

चीन अंतरिक्ष में अमेरिका को चुनौती देता नजर आ रहा है। देश अब अपने Tiangong space station में एक सिविलियन (Civilian) को भेजने वाला है। यानि कि किसी भी चीनी नागरिक के लिए यह अंतरिक्ष में जाने का पहला मौका होगा। NDTV के अनुसार, अभी तक स्पेस में भेजे गए यात्री पीपुल्स लिबरेशन आर्मी से थे। देश की स्पेस एजेंसी की ओर से यह जानकारी दी गई है। जिसमें बताया गया है कि चुने गए यात्री गुई हाईचाओ पेलोड एक्‍सपर्ट हैं और बीजिंग यूनिवर्सिटी ऑफ एरोनॉटिक्स एंड एस्ट्रोनॉटिक्स में प्रोफेसर भी हैं। उनके साथ मिशन के कमांडर जिंग हैपेंग और चालक दल के तीसरे सदस्य झू यांग्झू भी होंगे।

मिशन के लिए उड़ान उत्तर पश्चिमी चीन स्थित जिउक्वान सैटेलाइट लॉन्च सेंटर से भरी जाएगी (China Space Mission)

मिशन के लिए उड़ान उत्तर पश्चिमी चीन स्थित जिउक्वान सैटेलाइट लॉन्च सेंटर से भरी जाएगी। जिसके लिए कल, यानि मंगलवार के दिन सुबह 9.31 बजे का समय निर्धारित है। चीन को दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था कहा जाता है। पिछले कुछ सालों में देश ने अरबों डॉलर का निवेश अपने स्पेस प्रोग्राम में किया है। देश का मकसद चांद पर मनुष्य को भेजना है। देश की पूरी कोशिश है कि वह अमेरिका और रूस, जो स्पेस में काफी उपलब्धि हासिल कर चुके हैं, की बराबरी करते हुए इनसे आगे निकल जाए।

चीन का लक्ष्य चांद पर बेस स्टेशन बनाना भी है। साथ ही यह 2029 तक एक नया चांद मिशन लॉन्च करने की तैयारी कर रहा है। स्पेस में चीनी Civilian को भेजकर चीन नई उपलब्धि हासिल करने जा रहा है। आने वाले समय में देखना होगा कि अमेरिका और रूस को अंतरिक्ष में हराने के लिए यह कौन सा कदम उठाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *