Brahmacharini

Navratri 2022: नवरात्रि के दूसरे दिन कैसे करें मां Brahmacharini की पूजा, जानिए पूजा की विधि और महत्व

शारदीय Navratri का आज दूसरा दिन है। नवरात्रि के दूसरे दिन देवी के Brahmacharini रूप की पूजा की जाती है। मां ब्रह्मचारिणी को ज्ञान, तप और वैराग्य की देवी कहा जाता है। इनकी साधना और पूजा से जीवन के हर संकट, हर संकट को दूर किया जा सकता है। छात्रों के लिए मां ब्रह्मचारिणी की पूजा बहुत फलदायी मानी जाती है। यदि किसी की कुंडली में चंद्रमा के कमजोर होने के कारण कोई समस्या है तो उसे भी ब्रह्मचारिणी की पूजा से दूर किया जा सकता है।

आइए जानते हैं Navratri के दूसरे दिन मां Brahmacharini की पूजा कैसे करें।

माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा विधि (माँ ब्रह्मचारिणी पूजा विधि)
नवरात्रि (Navratri) के दूसरे दिन पीले या सफेद कपड़े पहनकर मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करनी चाहिए। इस दिन देवी को सफेद वस्तु का भोग लगाने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है। आप ब्रह्मचारिणी को मिश्री, चीनी या पंचामृत चढ़ा सकते हैं। पूजा के समय ज्ञान और वैराग्य के किसी भी मंत्र का जाप किया जा सकता है। माँ Brahmacharini के लिए “O नमः” का जाप करें। जलीय आहार और फलों के आहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए।

Brahmacharini की पूजा से मिलेगा ये लाभ

मां का ब्रह्मचारिणी रूप बहुत ही शांत, सौम्य और मोहक है। ऐसा माना जाता है कि मां के इस रूप की पूजा करने से व्यक्ति को तप, त्याग, वैराग्य और पुण्य जैसे गुणों की प्राप्ति होती है। मां के इस रूप की पूजा करने से साधक होने का फल मिलता है। मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने से हर काम में सफलता मिलती है और वह हमेशा सही रास्ते पर चलता है। इनकी पूजा करने से जीवन में चल रही सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं।

Navratri के दूसरे दिन करें ये उपाय (मां ब्रह्मचारिणी उपय)

मां ब्रह्मचारिणी (Brahmacharini) के मंत्रों के साथ चंद्रमा के मंत्रों का जाप करना बहुत अच्छा माना जाता है। इस दिन मां को चांदी का सामान भी चढ़ाया जाता है। आप शिक्षा या ज्ञान के लिए इस दिन मां सरस्वती की पूजा भी कर सकते हैं। भोग लगाने के बाद इसे घर के सभी सदस्यों को दें। ऐसा करने से घर के सभी सदस्यों को लंबी उम्र का वरदान मिलता है। Navratri के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी को चीनी का भोग लगाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *