Tech-Neck

Tech Neck के दर्द से आप भी हैं परेशान ; जानिए इससे निपटने के क्या टिप्स अपनाएं

जानिए क्या है Tech Neck का दर्द

Tech Neck जिसे टेक्स्ट नेक के रूप में भी जाना जाता है, इन दिनों मोबाइल फोन के अत्यधिक उपयोग और गतिहीन नौकरियों के कारण एक आम समस्या है, जिसके लिए घंटों स्क्रीन के सामने बैठना पड़ता है। यह अक्सर गर्दन क्षेत्र, कंधों और पीठ के आसपास बेचैनी के साथ शुरू होता है। यह छुरा घोंपने वाला दर्द, सिरदर्द, गर्दन में अकड़न, जबड़े में दर्द या हाथों और हाथों में सुन्नता भी पैदा कर सकता है। यह स्थिति गर्दन की अजीब मुद्रा के कारण होती है जिससे सर्वाइकल स्पाइन और सपोर्टिव मसल्स पर दबाव पड़ता है। जब आप लंबे समय तक अपनी स्क्रीन या मोबाइल को देखने के लिए अपनी गर्दन को आगे की ओर झुकाते हैं, तो इसका परिणाम इस स्थिति में होता है।

जानिए क्या कहते हैं अध्ययन

अध्ययनों ने साबित किया है कि गर्दन को 15 डिग्री आगे झुकाने से हमारी गर्दन पर लगभग 12.5 किलोग्राम अतिरिक्त भार पड़ता है। यह 30 डिग्री पर 16 किलोग्राम और गर्दन के लचीलेपन के 60 डिग्री पर 27.2 किलोग्राम तक बढ़ जाता है। इससे ग्रीवा रीढ़ पर भार में उल्लेखनीय वृद्धि होती है जिससे यह छोटी और बड़ी चोटों के लिए प्रवण हो जाती है। हो सकता है कि हमें इस बात का अहसास न हो, लेकिन अपनी गर्दन को लंबे समय तक इस तरह की परेशानी में रखने से जोड़ों और सर्वाइकल स्पाइन पर स्थायी रूप से असर पड़ सकता है।

विशेषज्ञ कहते है सरवाइकल इंटरवर्टेब्रल डिस्क और पहलू जोड़;की निरंतर असामान्य मुद्रा और उच्च भार के कारण; बहुत जल्दी डिस्क अध: पतन और सरवाइकल स्पोंडिलोसिस के रूप में जाना जाने वाला पहलू जोड़ों का गठिया होता है। ये परिवर्तन अपरिवर्तनीय और अक्सर प्रगतिशील होते हैं।

Tech Neck को ठीक करने के लिए आसन को सही करने के लिए तत्काल उपाय करने चाहिए। आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आप स्क्रीन का उपयोग आंखों के स्तर पर करें और काम के बीच में ब्रेक भी लें और अपनी मांसपेशियों को स्ट्रेच करें।
डॉ बम्ब तकनीकी गर्दन को रोकने के लिए उपयोगी टिप्स प्रदान करता है।

1) सही मुद्रा और एर्गोनॉमिक्स

सुनिश्चित करें कि काम पर और साथ ही स्क्रीन उपयोग के दौरान एर्गोनॉमिक्स को सही किया गया है। “जमीन के समानांतर ठोड़ी” का एक अंगूठे का नियम अधिकांश पोस्टुरल मुद्दों को हल करना चाहिए। स्टैंड का उपयोग, लैपटॉप उठाना और आंखों के स्तर पर डेस्कटॉप की व्यवस्था करना एर्गोनोमिक परिवर्तन को प्राथमिकता दी जाएगी।

2) रुक-रुक कर आराम और खिंचाव

कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम क्या पोस्टुरल सुधार और एर्गोनॉमिक्स देखते हैं, लंबे समय तक लगातार मुद्रा से मांसपेशियों में थकान होती है जिससे गर्दन में दर्द और अध: पतन होता है। सबसे अच्छा दांव एक ही स्थिति के लंबे समय तक आसन के चक्र को तोड़ना है। सिर के ऊपर गर्दन के भार संचरण को उतारने के लिए झुकी हुई स्थिति में आंतरायिक आराम प्रभावी साबित होता है। इसके अलावा, रुक-रुक कर होने वाले स्ट्रेच मांसपेशियों को रक्त की आपूर्ति बढ़ाते हैं, टोन बनाए रखते हैं और मांसपेशियों की थकान को कम करते हैं।

3) मांसपेशियों की ताकत में सुधार

ट्रेपेज़ियस मांसपेशी और स्कैपुलोथोरेसिक मांसपेशियां गतिशील गर्दन स्टेबलाइजर्स हैं। ये सर्वाइकल स्पाइन को मजबूत सहारा प्रदान करते हैं। उनकी ताकत में सुधार और मांसपेशियों की अच्छी टोन बनाए रखने से अध: पतन में देरी होती है और साथ ही गर्दन के लक्षणों में सुधार होता है।

4) अंतिम लेकिन कम से कम नहीं- रवैया परिवर्तन

अपने गैजेट पर कम निर्भर रहें अपनी रोज की जीवनशैली में बदलाव लाएं और अच्छा आहार ले जोकि रीढ़ और शरीर को समग्र रूप से मदद करता है। ये परिवर्तन दृष्टिकोण और व्यक्तित्व परिवर्तन हैं, प्रयास और इच्छाशक्ति की आवश्यकता होती है, लेकिन यह आपकी रीढ़ और शरीर की रक्षा करने के एक निश्चित तरीके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.